Skip to main content

डॉ. विवेकी राय से न मिल पाने का अफ़सोस मुझे आजीवन रहेगा :शिखा वार्ष्णेय


-लंदन से शिखा वार्ष्णेय-
एक बेहद दुखद सूचना अभी अभी मिली है कि प्रख्यात हिंदी साहित्यकार डॉ. विवेकी राय का आज सुबह पौने पांच बजे वाराणसी में निधन हो गया है। बीते 19 नवंबर को ही उन्होंने अपना 93वां जन्मदिन मनाया था. उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यश भारती से भी सम्मानित विवेकी राय जी ने हिंदी में ललित निबंध,कथा साहित्य, उपन्यास के साथ साथ भोजपुरी साहित्य में भी एक आंचलिक उपन्यासकार के रूप में खूब ख्याति अर्जित की थी और उनकी रचनाएं मैंने ब्लॉग्स पर पढ़ीं थी. यूँ मैं विवेकी राय जी से कभी मिल नहीं पाई, परंतु मेरे जीवन में उनका एक विशेष स्थान है - मेरी पहली पुस्तक (समृतियों में रूस)पर पहली टिप्पणी स्वरुप उनके ही आशीर्वचन हैं. असल में मैंने अपने ब्लॉगर साथियों के उत्साह वर्धन पर पुस्तक लिख तो ली थी परंतु उसे प्रकाशित करवाने के लिए सशंकित थी. मुझे एक ईमानदार सलाह की जरुरत थी. तब मैंने एक मित्र के द्वारा पुस्तक की पाण्डुलिपि उन्हें भिजवाई कि यदि हो सके तो कुछ पन्ने पढ़कर ही सही वह यह बता सकें कि वह एक यात्रासंस्मरण के रूप में छपवाने लायक है भी या नहीं. वे अस्वस्थ थे, उनकी आँखों में तकलीफ रहती थी, ज्यादा पढ़ नहीं पाते थे. परन्तु मुझे सुखद आश्चर्य हुआ जब उन्होंने थोड़ा -थोड़ा करके पूरी किताब पढ़ी और मेरे जीवन की सबसे अनमोल और खूबसूरत टिप्पणी मुझे दी.

मेरे मित्र के यह पूछने पर कि "किताब कैसी लगी ?" उन्होंने दो शब्द कहे " लेडी सांकृत्यायन" यह सुनकर मित्र हँसे और पूछा "कुछ ज्यादा नहीं हो गया ?" वे बोले "बिलकुल नहीं, बस भाषा पर थोड़ा सा और कमांड आ जाये और वह समय के साथ आ जायेगा" और इसके बाद किताब पर आशीर्वचन स्वरुप उन्होंने कुछ पंक्तियाँ भी लिखकर भेजीं. मेरे लिए उनके ये शब्द एक ऐसी जड़ी बूटी की तरह थे जिसने मेरे मन के न सिर्फ सब संशय दूर कर दिए बल्कि आगे चलने का सही मार्ग भी मुझे दिखाया. एक सशक्त, वरिष्ठ साहित्यकार का एक एकदम नए रचनाकार के प्रति यह विनीत व्यवहार न सिर्फ मुझे उनके प्रति आदर और श्रद्धा से भर गया बल्कि अब तक वरिष्ठ और स्थापित साहित्यकारों के गुरूर पूर्ण व्यवहार के बारे में सुनी हुई बातों को भी धूमिल कर गया था. एक ऐसे बेहतरीन रचनाकार से न मिल पाने का अफ़सोस मुझे आजीवन रहेगा और उनके शब्द मुझे हमेशा प्रेरणा देते रहेंगे हिन्दी साहित्य के इस पुरोधा को शत शत नमन .. (लेखिका के ब्लॉग से साभार)

ज़मीन से ज़मीन की बात - भू-मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

भाजपा के भरोसे कब तक रहेंगे भूमिहार,बनाते क्यों नहीं अपनी पार्टी?

एक ज़माना पहले भूमिहार समाज और बिहार की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे. लेकिन फिर एक आंधी आयी और उसमें सबकुछ उड़ता चला गया.जब गुबार छंटा तो भूमिहार ब्राह्मण राजनीति में हाशिये पर जा चुके थे. जानिये 'शैलेन्द्र' की जुबानी पूरी कहानी (परशुराम)
1977 तक बिहार की राजनीति में भूमिहारों का वर्चस्व - भूमिहार समाज आज राजनीति में हाशिये पर है.लेकिन एक वक़्त था जब भूमिहार ब्राह्मणों की राजनीति में तूती बोलती थी.भारत की आज़ादी के बाद बिहार जैसे प्रदेश में तो पूरी राजनीति ही भूमिहारों के इर्द-गिर्द ही घूमती रही . यही वजह रही कि बिहार की राजनीति में 1977 तक श्रीकृष्ण बाबू के रूप में सिर्फ एक मुख्यमंत्री बनने के बावजूद भूमिहार विधायकों की संख्या अपेक्षाकृत ज्यादा रही. 
भूमिहारों ने की ऐतिहासिक भूल - लेकिन 1977 के बाद से स्थितियां बदलने लगी. बिहार की राजनीति बदलने लगी. भूमिहारों के खिलाफ कई दूसरी जातियां लामबंद होने लगी.फिर भी भूमिहार विधायकों की संख्या में कोई ख़ास कमी नहीं आयी. लेकिन इसी दौरान एक ऐसा मोड़ आया जिसने पूरी सियासत का रूख पलट दिया. भू-समाज ने एक ऐतिहासिक गलती की. 1992 में कांग्रेस को …