Skip to main content

भाजपा से मिला भूमिहारों को बाबाजी का ठुल्लू

-रौशन कुमार सिंह-
शाह- बादशाह और राजनाथ के खेल में हाशिए पर भूमिहार, सशक्त भूमिहार नेता की जरूरत


आज देश में भाजपा का चरमोत्कर्ष है जिसमें शाह और बादशाह के साथ राजनाथ का संगम है।। क्या आपने महसूस किया है .आज देश के सारे राजपूत राजनाथ के साथ हैं।। यह समझिए कि बगैर किसी हल्ला और प्रयास के राजपूत राजनाथ के साथ हो लिए. अब राजनाथ राजपूतों के पावर हाऊस बन गए हैं और उन्होंने दूसरे दलों से चुन चुनकर राजपूतों को भाजपा में ऊँचे पदों पर बैठाया और टिकट दिलवाया।।कृषि मंत्री राधामोहन सिंह इस बात के जीवंत उदाहरण हैं.



सत्ता की खुशबू राजपूत जल्दी सूंघ लेते है. आपको याद होगा कि लालू राज में सत्ता का स्वाद चाटने के लिए अधिकांश राजपूत लालू यादव के साथ हो गये थे।। यादव के बाद राजपूत विधायकों की संख्या ही सबसे अधिक राजद में होती थी।। ऐसा ही कुछ तस्वीर यूपी में मुलायम सरकार में भी थी।। कांग्रेस में भी राजपूतों का पावर हाउस दिग्गी//सिंधिया.....के रुप में पर्याप्त है जो राजपूतों को पद व पावर दिलाने में सक्षम हैं।। पर भूमिहार कहां है? किसी भी दल में कहीं नहीं।। पर बकलोली करने व काबिलपंथी दिखाने में सबसे आगे हैं व चौक-चौराहों पर खाली पेट हल्ला करने में आगे हैं।। लोकसभा चुनाव का यहाँ उल्लेख करना चाहूँगा. उत्तर बिहार की मोतीहारी/महाराजगंज/मुजफ्फरपुरर/वैशाली सभी चारों लोकसभा सीट भाजपा ने राजपूतों को व अन्य एक पिछडा को दे दिया।। हमें क्या मिला? बाबाजी का ठुल्लू।। हाल ऐसा है कि कांग्रेस में भी कि अखिलेश सिंह को अपनी सीट नहीं मिली और रामजतन सिंहाजी का टिकट कट गया।।



भाजपा में भूमिहार के मुकाबले यादव ज्यादा टिकट ले गये जहां से भाजपा को वोट नहीं मिला।।सीपी ठाकुर के एक बेटा को सीट मिली वो भी बेमन वाली. मिला-जुलाकर भाजपा ने भी भूमिहारों को दिया बाबाजी का ठुल्लू. फिर भी भूमिहार भाजपा पर मर मिटने को तैयार हैं. लेकिन ये नहीं सोंचते कि बाकी दलों की तरह भाजपा भी उन्हें उसी तरह से ट्रीट कर रही है और ये सब मज़बूत नेतृत्व के अभाव में हो रहा है. इसलिए दरकार है एक सशक्त भूमिहार नेता की. 
(रौशन कुमार सिंह द्वारा की गयी फेसबुक कमेंट को सिलसिलेवार ढंग से जोड़कर इसे लेख का रूप दिया गया है.)

Comments

Prabhat Ranjan said…
hum khush hai phir bhi
Unknown said…
Well said and with facts.If anyone still prefers to keep his shut , then it's shocking. For why, we can't understand it. Poor fellow.

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.