Skip to main content

श्री कृष्ण सिंह की जयंती मनाने के लिए एकजुट हुए 20 भूमिहार संगठन





भूमिहार समाज में एकता का सर्वथा अभाव देखा जाता है. कोई भी किसी के झंडे के नीचे नहीं आना चाहता. सबके अपने झंडे हैं और सबको अपना झंडा सबसे ऊँचा ही लगता है. लेकिन बिहार केसरी और बिहार के पहले मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह की जयंती पर बीस भूमिहार संगठनों ने एकजुट होकर एक नई मिसाल पेश की है.

दरअसल 23 अक्टूबर को दिल्ली में श्रीकृष्ण सिंह जयंती का दिल्ली में आयोजन किया जा रहा है जिसकी सूचना ‘भूमिहार मंत्र’ पर विगत में दी गयी थी. उसी संबंध में आज सोशल मीडिया पर जानकारी साझा करते हुए श्रीकृष्ण जयंती समारोह के आयोजकों ने लिखा -

 अखिल भारतीय भूमिहार ब्राह्मण महासंघ के तत्वावधान में आयोजित होने वाली 23 अक्टूबर को बिहार केशरी "श्री कृष्ण सिंह" की जयंती समारोह का आयोजन नई दिल्ली के राजेंद्र भवन आडिटोरियम, दिन दयाल उपाध्याय मार्ग, नई दिल्ली, निकट :-आई टी ओ में किया जा रहा है। इस समारोह के आयोजक मंडल में जिन संगठनों नाम है वे इस प्रकार हैं।

1 अखिल भारतीय भूमिहार ब्राह्मण समाज दिल्ली 
2
ब्रह्मर्षि सेवा समाज, हैदराबाद 
3
ब्रह्मर्षि समाज, बेंगलुरु 
4
भूमिहार सेवा समिति मुंबई 
5
भूमिहार एकता मंच, पश्चिम बंगाल 
6
भूमिहार ब्राह्मण समाज, कोटा (राजस्थान) 
7
भूमिहार ब्राह्मण महासभा, एलाहाबाद 
8
अखिल भारतीय भूमिहार ब्राह्मण महासभा, बाराणसी 
9
अखिल भारतीय ब्रह्मर्षि समाज, पटना
10
पूर्वांचल भूमिहार ब्राह्मण परिवार,NCR गाजियाबाद 
11
बर्ह्मर्षि विकास संस्थान दरभंगा
12 श्री परांकुश संस्कृत संस्कृति संरक्षा परिषद हूलासगंज, (जहानाबाद) 
13
राजगुरु मठ शिवाला घाट, बाराणसी 
14
हनुमतपीठ, संकटमोचन हनुमान मंदिर, ऋषिकेश
15
स्वामी सहजानन्द सरस्वती सेवा समाज, 
बोकारो स्टील सिटी झारखंड 
16
त्यागी भूमिहार ब्राह्मण समाज, नोएडा 
17
त्यागी मित्र मंडल, नोएडा 
18
इंद्रप्रस्थ ब्रह्मर्षि समाज एकता मंच, बदरपुर दिल्ली 
19
दिनकर सोसायटी, रोहिणी - नई दिल्ली 
20
अखिल भारतीय ब्रह्मर्षि समाज मुजफ्फरनगर, यूपी 

नोट :- त्यागी ब्राह्मण समाज के जो भी सदस्य या संगठन का नाम आयोजक मण्डल में नहीं आया है वे भी शामिल हैं।
केवल :---सूचनार्थ 
यू के शर्मा 
महासचिव 
अखिल भारतीय भूमिहार ब्राह्मण महासंघ 
नई दिल्ली 
9717076006




Comments

Bahut hi achhhA..ab sath milkar samaj ke development ke liye v kam karna chahiye
Great initiative ,He is a role model for all of us.We must feel proud of them.
That's our glorious past, we must introspect that why nowadays we are unable to create/produce people like Bihar Keshri Sri Babu, Swami Sahjanand Saraswati,Rashtrakavi Dinkar, Rajnarayan, Moraraji Desai etc. !
Thanks again for this great initiative and event. Wish you all the best.
Thanks and Regards
Regards Kumar
Founder& National Secretary General,
GARHPURA NAMAK SATYAGRAH GAURAV YATRA SAMITI,
Station Road,
BEGUSARAI(Bihar)
09431210281
rajeebrbk@gmail.com
gautam sharma said…
Nice 2 see all bhumihar together if we collect nepali bhumihar then they also happy so much.

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.