Skip to main content

श्रीकृष्ण सिंह जयंती और कैलाशपति मिश्र की पुण्यतिथि पर सामने आया बिहार बीजेपी का ‘भूमिहार’ फैक्टर

सुशांत झा 
बेगूसराय से सांसद और बिहार बीजेपी के वरिष्ट नेता डॉ भोला प्रसाद सिंह ने कहा कि उन्हें ‘पोसुआ’(पालतू) न समझा जाए। साथ ही उन्होंने कहा कि ‘हम कैलाशपति मिश्रा की संतान है और हमारे हाथ में कलम भी है और तलवार भी। हम पार्टी के लिए मरते-खपते हैं लेकिन जब लाभ लेने की बारी आती है तो कोई और ले जाता है’।
इस बयान की तल्खी समझनी हो तो हाल ही में बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह जयंती के उपलक्ष्य में भी नेताओं के बयान देखे जा सकते हैं। वहां भी भोला सिंह आक्रामक थे और भूमिहार समाज के अन्य नेता भी। दरअसल, बिहार बीजेपी में जो खिचड़ी पक रही है उसके कई संदेश हैं जिसके आनेवाले समय में दूरगामी नतीजे हो सकते हैं।

3 नवंबर को बिहार बीजेपी ने अपने भीष्मपितामह कैलाशपति मिश्र की दूसरी पूण्यतिथि मनाई थी जिसमें लगभग पूरी प्रदेश इकाई उपस्थित था। कैलाशपति मिश्रा जनसंघ के जमाने से ही पहले जनसंघ और बाद में जनसंघ के मुख्य कर्ता-धर्ता थे और वस्तुत: पूरी बिहार बीजेपी ही उनके हाथों गढी गई थी। आपातकाल से पूर्व भी जेपी और गोलवलकर को नजदीक लाने में उनकी अहम भूमिका थी। दो साल पहले जब उनका निधन हुआ तो खुद नरेंद्र मोदी उनकी अंत्येष्टि में शरीक हुए थे। जाहिर है, उनकी अपनी अहमियत थी।

कैलाशपति मिश्र जैसे कद के नेता को जातीय राजनीति के खांचे में बांटना उचित नहीं होगा लेकिन जिस तरह से पहले श्रीकृष्ण सिंह जयंती और अब कैलाशपति मिश्र की पूण्यतिथि पर भूमिहार नेताओं ने प्रदेश बीजेपी नेतृत्व के सामने अपना आक्रोष जाहिर किया है वह बहुत कुछ कहता है।

दरअसल, बिहार विधानसभा चुनाव होनेवाला है और जिस तरह बीजेपी ने महाराष्ट्र और हरियाणा में जीत हासिल की है और झारखंड में उसे अच्छे आसार नजर आ रहे हैं-वह एक मनोवैज्ञानिक बढत की स्थिति में है। अगले साल बिहार में विधानसभा चुनाव होना है और प्रदेश में मुख्यमंत्री के पद को लेकर घमासान जारी है। बिहार बीजेपी में सुशील मोदी के नाम पर आम सहमति नहीं बन रही है लेकिन एक सचाई यह भी है कि उनके कद का दूसरा नेता बिहार बीजेपी में नहीं है।

लोकसभा चुनाव के समय से ही भुमिहार समाज सुशील मोदी से कुछ उखड़ा-उखड़ा चल रहा है, जिसकी कई ज्ञात-अज्ञात वजहें हैं। सुशील मोदी के कद से कई नेताओं को लगता है कि दूसरे नेताओं को उभरने का मौका नहीं मिल पा रहा।

लेकिन ये भी सचाई है कि दूसरा मजबूत उम्मीदवार मैदान में नहीं है। बिहार में सुशील मोदी के बरक्श दूसरे उम्मीदवार जो हैं उनमें नन्दकिशोर यादव, सीपी ठाकुर, प्रेम कुमार, रविशंकर प्रसाद आदि हैं लेकिन इनमें किसी के नाम पर आमसहमति नहीं है।

लेकिन बिहार में जो सामजाकि-राजनीतिक हालात हैं उसमें ये भी एक तल्ख सचाई है कि किसी भूमिहार नेता का नाम आगे किए जाने से भी आमसहमति नहीं बनेगी। ऐसे में भोला सिंह जैसे नेताओं की तल्खी का मकसद क्या है?

दरअसल, भूमिहार नेताओं को मालूम है कि अभी उनके नाम पर आम सहमति शायद ही हो पाए। लेकिन वो ये भी देख रहे हैं कि अगले विधानसभा चुनाव में बिहार में बीजेपी बेहतर प्रदर्शन कर सकती है। ऐसे में उन्हें अपनी बात को आला कमान तक पहुंचाना है कि टिकट बंटवारे और सरकार बन सकने की स्थिति में उन्हें उनकी भरपूर हिस्सेदारी मिले। क्योंकि दूसरी तरफ सत्ताधारी जेडी-यू ने पर्याप्त संख्या में भूमिहारों को टिकट और मंत्रीमंडल में स्थान दिया है। ऐसे में भूमिहार समाज बीजेपी को इशारा कर रहा है अगर हमें पर्याप्त हिस्सेदारी नहीं दी गई तो हम किसी भी पार्टी से हाथ मिला सकते हैं।

दूसरी बात ये भी प्रदेश का भूमिहार नेतृत्व इस बात से असंतुष्ट है कि केंद्र की सरकार में समाज से एक भी नेता को मंत्री क्यों नहीं बनाया गया। वाजपेयी सरकार में सीपी ठाकुर को महत्वपूर्ण जिम्मेवारियां मिलीं थी लेकिन इस बार किसी को नहीं मिली। ले देकर एक मनोज सिन्हा को राज्यमंत्री बनाया गया लेकिन वे बिहार से बाहर गाजीपुर के हैं। ऐसे में भूमिहार समाज के नेता केंद्र सरकार को भी संदेश देना चाहते हैं कि उन्हें हल्के में न लिया जाए।
Title : Bihar Bjp Bhumihar Factor

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.