Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2012

ब्रहमेश्वर सिंह मुखिया : आधुनिक परशुराम

कौन जानता था कि तारीख 1 जून की सुबह एक ऐसे ब्राहमण योद्धा की नृशंश हत्या कर दी जाएगी जिसने अपनी  पूरी जिंदगी किसानों के हित में  और  माओवादियों के खिलाफ लड़ते बिता दी और जान भी दी तो किसानों के अधिकारों की लड़ाई लड़ते हुए. आगे बढ़ने से पहले मै  कुछ बातो को साफ़ करता चलूँ. छोटी जाती में जन्म लेना कोई अपराध नहीं  है, ठीक उसी तरह बड़ी जाती में जन्म लेना किसी भी तरह से बुराई नहीं है. जाति या जन्म के आधार पर जुल्म करना कितना सही है कितना गलत ये तो विज्ञ लोग ही बता सकते हैं
मैंने बहुतो को देखा है कि वो दलित सम्बन्धी  अधिकारों की वकालत करते देखा है ( मै भी इसके अंतर्गत हूँ) लेकिन इसका ये मतलब नहीं की सवर्ण पे जातिगत आधार पर या संपन्नता  के आधार पर आक्रमण किये जाएँ .  किसी का  अभी अपने अधिकारों के लिए लड़ना जायज है लेकिन इसका ये मतलब नहीं की जो चीज हमारे पास नहीं है उसे दूसरो से बलात  छीन ली जाए, चाहे वो दलित वर्ग हो या सवर्ण.   . इसको एक उदहारण  से और समझा जा सकता है, यदि किसी की आय चालीस हजार मासिक है और दूसरे की एक लाख, तो चालीस हजार वाला अपनी क्षमता बढ़ा कर अपनी आय एक लाख करने का अधिकार र…

स्वर्गीय ब्रह्मेश्वर सिंह के नाम पर ब्रह्मेश्वर नगर

मोतिहारी : जिला मुख्यालय स्थित न्यू अगरवा मुहल्ले का नाम ब्रह्मेश्वर नगर हो सकता है। सोमवार को समाजसेवी राय सुंदरदेव शर्मा के आवास पर ब्रह्मेश्वर मुखिया के दाह संस्कार के बाद श्रीकृष्णनगर व अगरवा के निवासियों की एक बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता श्री शर्मा ने की।

बैठक में निर्णय लिया गया कि न्यू अगरवा मुहल्ले का नाम किसान नेता ब्रह्मेश्वर सिंह मुखिया के नाम पर ब्रह्मेश्वर नगर होगा। इस मांग को रविरंजन उर्फ नेता ने रविवार की बैठक में रखी थी। उन्होंने सरकार से हत्या मामले की सीबीआई जांच करने की मांग की। 

मांग पूरी न होने पर आन्दोलन की चेतावनी दी। बैठक में वशिष्ठ शुक्ला, रविरंजन उर्फ नेता, राकेश मिश्रा, चुनचुन ठाकुर, राजू सिंह, अभय शर्मा, रत्नेश सिंह, कांग्रेस के विजय सिंह, संतोष कुमार, पिक्कू सिंह मुखिया, डा. भुनेश्वर ंिसह, अखिलेश्वर पांडेय, भूषण श्रीवास्तव, विकास सिंह उर्फ लड्डू सिंह, जेपी शर्मा, अजय सिंह सहित अन्य सदस्य मौजूद थे।

शव यात्रा के उपद्रवियों को जल्द मिलेगी सजा - डी जी पी अभयानंद

बिहार के पुलिस महानिदेशक - डी जी पी अभयानंद ने कहा कि ‎ब्रह्मेश्वर मुखिया की शव यात्रा के दौरान उपद्रव करने वालों की पहचान का काम शुरू कर दिया गया है.पटना में शनिवार को संवाददाताओं को संबोधित करते हुए अभयानंद ने कहा कि ‎ब्रह्मेश्वर मुखिया की शव यात्रा में शामिल उपद्रवियों द्वारा सरकारी एवं गैर सरकारी वाहनों और अन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने वालों की पहचान का काम शुरू कर दिया गया है.
उन्होंने कहा कि शव यात्रा में पूरे बिहार के कई हिस्से से आए लोग शामिल थे और कुछ पटना के भी थे जिनकी पहचान का काम शुरू कर दिया गया है.
अभयानंद ने कहा कि शव यात्रा में शामिल उपद्रवियों द्वारा सरकारी एवं गैर सरकारी वाहनों और अन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बनाए जाने से स्थिति को गंभीर होते देख गृह विभाग के प्रधानसचिव आमिर सुबहानी, अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था एस के भारद्वाज, पटना के प्रमंडलीय आयुक्त के पी रमैय्या और पटना प्रमंडल के पुलिस महानिरीक्षक भृगु श्रीनिवासन के साथ तीन घंटे पूर्व एक बैठक कर यह निर्णय लिया गया है कि हालात की निगरानी की जाएगी.
उन्होंने कहा कि शव यात्रा के दौरान उपद्रव करने वालों क…

ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या की सीबीआई जांच हो : लालू

आईएएनएस, 05-Jun-2012 02:40:45 AM
ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या की सीबीआई जांच हो : लालू पटना| राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने रणवीर सेना के प्रमुख ब्रह्मेश्वर सिंह मुखिया की हत्या की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग की है। लालू ने कहा कि बिहार में कानून व्यवस्था की स्थिति समाप्त हो गई है। पटना में राजद कार्यालय में मंगलवार को पार्टी सदस्यता अभियान की शुरुआत करते हुए उन्होंने कहा कि यह अभियान एक वर्ष तक चलेगा जिसमें एक करोड़ लोगों को पार्टी के सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि राजद का सांगठनिक चुनाव अगले वर्ष के प्रारंभ में होना है।

लालू ने कहा कि मुखिया हत्याकांड की जांच के लिए एक टीम का गठन किया गया है जिसका नेतृत्व एक पुलिस उपाधीक्षक स्तर का अधिकारी कर रहा है। आखिर इस दल का क्या औचित्य है। उन्होंने कहा कि ब्रह्मेश्वर हत्याकांड में सीबीआई जांच से नीचे कुछ भी स्वीकार्य नहीं किया जा सकता।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि जो स्थिति बनी है उसमें राज्य की कानून व्यवस्था चरमरा गई है। उन्होंने पूछा कि कहां है सुशासन? हालांकि वह कहते हैं कि…

ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या मामले में 2 लोग हिरासत में

आरा। बिहार में कथित भूस्वामियों की प्रतिबंधित रणवीर सेना के संस्थापक ब्रह्मेश्वर सिंह / मुखिया की तीन दिन पूर्व हत्या के मामले में पुलिस ने आज दो लोगों को हिरासत में लिया। पुलिस सूत्रों के मुताबिक मुखिया की हत्या के मामले में दो लोगों को आज आरा शहर स्थित एक ठिकाने से हिरासत में लिया गया। हिरासत में लेने के बाद दोनों व्यक्तियों से पुलिस एक गुप्त स्थान पर पूछताछ कर रही है। हालांकि जांच प्रभावित होने का हवाला देकर पुलिस इस संबंध में तत्काल विस्तार से कुछ भी बताने से इनकार कर रही है। सूत्रों ने बताया कि मुखिया की हत्या के बाद से फरार चल रहे कुछ संदिग्ध लोगों पर नजर रखी जा रही है। मुखिया हत्या मामले की जांच के लिए गठित पुलिस की विशेष टीम संदिग्ध लोगों की धर-पकड़ के लिए आरा शहर और उसके आसपास के इलाकों में लगातार छापामारी कर रही है। मालूम है कि तीन दिन पूर्व ब्रह्मेश्वर मुखिया की भोजपुर जिले के नवादा थाना के कतिरा मुहल्ला में अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

स्वर्गीय ब्रह्मेश्वर मुखिया - शव यात्रा की तस्वीरें

ब्रह्मेश्वर सिंह की अंतिम यात्रा में हजारों लोग शामिल

पटना : रणवीर सेना के संस्थापक ब्रह्मेश्वर सिंह की शनिवार को पटना में अंत्येष्टि को लेकर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं और राज्य में हाई अलर्ट बना हुआ है। ब्रह्मेश्वर सिंह की अंतिम यात्रा में हजारों लोग शामिल हुए हैं। जानकारी के अनुसार, अंतिम यात्रा पटना पहुंच चुकी है। 
इसकी निगरानी कर रहे एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि अन्य जगहों पर भी हजारों लोग अंतिम यात्रा में शामिल होने का इंतजार कर रहे हैं। सैकड़ों वाहनों के चलते यह यात्रा करीब तीन किलोमीटर लंबी हो गई है।
आरा-पटना सड़क मार्ग पर अतिरिक्त पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। मुखिया के परिजनों के मुताबिक पटना के गंगा नदी के बांसघाट पर शाम तीन बजे मुखिया की अंत्येष्टि का कार्यक्रम है। सुबह नौ बजे आरा स्थित उनके आवास से शव यात्रा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच पटना के लिए रवाना हो चुकी है, जिसमें हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए हैं। इस शव यात्रा को लेकर हाई अलर्ट और कड़ी सुरक्षा की गई है। शव यात्रा में एहतियातन में डीजीपी भी मौजूद हैं। उधर, आरा में हालात अब कुछ बेहतर हुए हैं। 

पटना की पुलिस अधीक्षक (नगर) किम ने बताया कि शव यात्रा के दौर…

ब्रह्मेश्वर सिंह की निर्मम ह्त्या के विरोध में इंडिया गेट पर कैंडल मार्च

जब तक सूरज - चाँद रहेगा, मुखिया जी का नाम रहेगा. पूरे इंडिया गेट में आज यही नारा गूँज रहा था. ब्रहामेश्वर सिंह की हत्या के विरोध में आज दिल्ली के इंडिया गेट में एक कैंडल मार्च का आयोजन किया गया था जिसमें शॉर्ट नोटिस पर ही भारी संख्या में लोग पहुंचे और सांकेतिक विरोध प्रदर्शन किया. 
ब्रह्मेश्वर सिंह जी की हत्या से लोगों का ह्रदय भारी था,  लोग आक्रोश में थे और अपना काम - धंधा छोड़ इंडिया गेट पहुंचे थे.  लेकिन उनके चेहरे पर गुस्सा साफ़ झलक रहा था. नीतिश कुमार की हाय - हाय के बीच पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग भी की गयी. 
तस्वीरों में विरोध प्रदर्शन : 


Candle March at India Gate Sri Brahmeshwar Mukhiya Jee 1

इंडिया गेट पर आयें, ब्रह्मेश्वर सिंह की निर्मम ह्त्या का विरोध करें

बिहार के आरा जिले में शुक्रवार तडके रणवीर सेना के पूर्व प्रमुख ब्रह्मेश्वर सिंह उर्फ ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या कर दी गयी. किसी इंसान को मारने के लिए एक गोली या फिर ज्यादा-से-ज्यादा 4-5 गोलियाँ काफी है. लेकिन IBN-7 की माने तो मुखिया को 40 गोलियां मारी गईं.


हत्या के प्रतिशोध में हत्या और नरसंहार के बदले एक और नरसंहार. वर्षों से यहाँ यही होता आया है. हत्या किसी की भी हो , इंसानियत ही शर्मसार होती है. हत्या के प्रतिशोध में हत्या और फिर .......... सिलसिला थमता नहीं. सभ्य समाज के लिए खतरनाक संकेत. 


मुश्किल यह है कि इस हत्या के बाद इसपर जमकर सियासत होगी और उस क्षेत्र में जहाँ पिछले काफी समय से कोई बड़ी वारदात नहीं हुई , आशंका है कि एक बार फिर से हत्या और नरसंहार का दौर कहीं शुरू न हो जाए.



ब्रहामेश्वर सिंह की हत्या के विरोध में आज दिल्ली के इंडिया गेट में एक कैंडल मार्च का आयोजन किया जा रहा है. आप भी इस कैंडल मार्च में हिस्सा लेकर इस ह्त्या का विरोध करे. ब्रह्मेश्वर सिंह की निर्मम ह्त्या  के विरोध में कैंडल मार्च समय - 6 बजे.स्थान - इंडिया गेट 

ब्रह्मेश्वर मुखिया का अंतिम संस्‍कार आज, हालात तनावपूर्ण

रणबीर सेना के प्रमुख ब्रह्मेश्वर मुखिया का आज पटना में अंतिम संस्कार होगा. अंतिम यात्रा आरा से सुबह 8 बजे शुरू होगी और पटना में 12 बजे पहुंचेंगी. हालांकि आरा में हालात अब भी तनावपूर्ण बना हुआ है.
ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या के बाद आरा में शुक्रवार को भड़के लोगों ने पांच बसों में आग लगा दी और सर्किट हाउस को फूंक दिया था.
इस बीच, बिहार में कानून-व्यवस्था की समीक्षा के लिए गए केंद्रीय गृह सचिव आर के सिंह भी आरा में मौजूद रहेंगे.


(आजतक से साभार )

ब्रह्मेश्वर और रणवीर सेना टॉप टेन में कर रहे ट्रेंड

बिहार में उच्च जातियों के संगठन रणवीर सेना के संस्थापक ब्रह्मेश्वर सिंह 'मुखिया' की आरा जिले में गुरुवार सुबह निर्मम हत्या कर दी गई। इस घटना की खबर आने के बाद सेना और सिंह से जुड़ी खबरें और विश्लेषण न्यूज़ वेब पोर्टलों पर पर छा गयी। 
सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर तो यह दोनों शब्द टॉप टेन ट्रेंड में शामिल हो गए थे। करीब डेढ़ बजे ट्विटर पर यह ट्रेंड बना हुआ था जिनमें रणवीर सेना चौथे और ब्रह्मेश्वर सिंह छठे स्थान पर ट्रेंड कर रहे थे। 
ट्रेंड देखें:

• #ICantGoOneDayWithout  •#WhatTurnsMeOff  •#SorryICantDateYou  •Ranvir Sena  •Dempo  •Brahmeshwar Singh  •Snigdha Nandipati  •BEML  •Spelling Bee  •NaMo 
गूगल सर्च में जाने पर ब्रहमेश्वर सिंह मुखिया पर करीब साढे़ ग्यारह हजार परिणाम सामने आते हैं जबकि बिंग सर्च में आठ हजार परिणाम सामने आते हें। यू ट्यूब पर इस समय ब्रह्मेश्वर सिंह पर 25 वीडियो अपलोड हैं और न्यूज़ सेक्शन में तीन से कम सेकेंड में 389 परिणाम दिखाई देते हैं।

ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या, बिहार में फिर शुरू हो सकता है खूनी संघर्ष!

रणवीर सेना के प्रमुख ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या के बाद बिहार में एक बार फिर से खूनी संघर्ष शुरू होने की आशंका घिरने लगी है। आरा जिले में मुखिया की हत्या के बाद 80 के दशक में जो खूनी खेल ठाकुर और नक्सलियों में शुरु होकर 90 तक चला था, उस जातीय युद्ध के बीज अब फिर से पकने लगे हैं।
राज्य में 90 के दशक में हुए कई नरसंहारों में रणवीर सेना का हाथ माना जाता है। हाल ही में ब्रह्मेश्वर सिंह को बथानी टोला नरसंहार मामले में बाइज्जत बरी कर दिया गया था। हालांकि हाई कोर्ट के इस फैसले की कड़ी आलोचना हुई भी थी। जानकारों का कहना है कि ब्रह्मेश्वर की हत्या बथानी में किए गए नरसंहार का बदला है। ब्रह्मेश्वर सिंह मुखिया बिहार का जाना माना नाम है और वो रणवीर सेना के कारण चर्चा में आए थे। कई संगीन अपराधों में शामिल सिंह को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। वह हाल ही में जेल से रिहा हुये थे। जेल से निकलने के साथ ही किसानों के लिए एक संगठन की स्थापना भी की थी जो किसानों के हित के लिए संघर्ष करता। लेकिन मुखिया की हत्या की इस घटना के बाद से ये भी कयास लगाए जा रहे हैं कि कहीं फिर से बिहार में खूनी संघर्ष का दौर ना श…

किसान नेता और रणवीर सेना के संस्थापक ब्रह्मेश्वर मुखिया की निर्मम ह्त्या

पटना : किसान नेता और अपने दम पर किसान विरोधी उग्रवादी संगठनों से लोहा लेने वाले ब्रहमेश्वर मुखिया की आज आरा में गोली मारकर हत्या कर दी गयी.हत्या को अंजाम तब दिया गया जब वे सुबह चार बजे टहलने के लिए निकले थे.ठीक उसी वक्त घात लगाकर बैठे हमलावरों ने उनपर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी और वे किसानों के नाम पर शहीद हो गए . इस दौरान तकरीबन 40 गोलियाँ चलायी गयी.

घटना के बाद गुस्साए लोगों ने जमकर नारेबाजी की और मौके पर पहुंचे पुलिसवालों से भी उनकी झड़प हो गई. मौके पर पहुंचे भोजपुर के एसपी को भी लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा. पुलिस हमलावरों की तलाश कर रही है. उधर, राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घटना पर पहली प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि मामले की निष्पक्ष जांच की जाएगी.  उन्होंने कहा, 'मैं लोगों से संयम बरतने और शांति रखने की अपील करता हूं. वारदात की पूरी जांच की जाएगी.'

राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (विधि व्यवस्था) एस. क़े भारद्वाज ने बताया कि पूरे आरा शहर में धारा 144 लगा दी गई है और उपद्रवियों से सख्ती से निपटने का निर्देश दिया गया है.   इसके अलावा राज्य के जहानाबाद, अरवल, औरं…