Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2010

क्रान्तिकारी थे भगवान परशुराम

हिन्दुओं के चरित्रनायकों में परशुराम अपनी विलक्षणता के कारण प्रसिद्ध हैं। वे विष्णु के छठे अवतार हैं। अवतारों के क्रम पर दृष्टि डालें तो मत्स्य, कूर्म, वराह, नरसिंह और वामन के बाद परशुराम के रूप में एक पूर्ण मानव सत्ता में आया। परशुराम की पहचान एक क्रान्तिकारी ब्राह्मण योद्धा के रूप में है। उनका जन्म वैशाख शुक्ल तृतीया को पुनर्वसु नक्षत्र में हुआ था। उनके पिता जमदग्नि वैदिक युग के अंतिम ऋषि होने के साथ-साथ ब्राह्मण युग के जन्मदाता थे। माता रेणुका क्षत्राणी थी। इस तरह परशुराम की रगों में ब्राह्मण और क्षत्रिय कुल के रक्त का संगम था। वे विश्वामित्र की भगिनी के पौत्र थे। रूमण्वान, सुषेण, वसु और विश्वावसु उनके भाई थे। परशुराम सबसे छोटे थे। परशुराम वैदिक युग और ब्राह्मण युग के संधि पुरूष हैं। एक ऎसा पुरूष जो ब्रह्मतेज और क्षात्रतेज के संयोग से अवतरित हुआ। वह ब्राह्मणत्व पर तो गर्व करता है, किन्तु कर्म में सदा क्षत्रिय रहता है। क्षत्रियों के भुजबल को ब्रह्मतेज से कुंठित कर देने वाले परशुराम भले ही सहनशील हिन्दुओं के सर्वमान्य आदर्श न रहे हों, परन्तु परशुराम का लोहा कभी भी ठंडा नहीं पड़ा। एक…

परशुराम के जयकारों से गूंजा शहर

जयपुर. भगवान परशुराम जयंती के उपलक्ष्य में मंगलवार को राजस्थान ब्राrाण महासभा ओर से शहर में शोभायात्राएं निकाली गईं। इस दौरान पूरा वातावरण भगवान परशुराम के जयकारों से गूंज उठा। जलेब चौक से शुरू हुई मुख्य शोभायात्रा में गाजे-बाजों के साथ 31 रथों पर भगवान परशुराम के जीवन चरित्र से जुड़ी झांकियां सजी थीं।बाल स्वरूपों की जीवंत झांकियां भी शामिल थीं। शोभायात्रा का जगह-जगह स्वागत किया गया व मुख्य रथ में सजी परशुराम की झांकी की आरती उतारी गई। बड़ी चौपड़ पर महंत पुरुषोत्तम भारती सहित अनेक लोगों ने आरती उतारी। जौहरी बाजार, न्यू गेट, चौड़ा रास्ता, त्रिपोलिया बाजार, छोटी चौपड़ तथा गणगौरी बाजार होकर चौगान स्टेडियम पहुंचकर संपन्न हुई।बदनपुरा खंड इकाई बंगाली बाबा गणेश मंदिर से शुकसंप्रदाचार्य अलबेली माधुरीशरण महाराज ने शोभायात्रा को रवाना किया। 11 झांकियों वाली यह शोभायात्रा बदनपुरा, गंगापोल, सुभाषचौक, चांदी की टकसाल होती हुई जलेब चौक स्थित मुख्य शोभायात्रा में शामिल हुई। प्रताप नगर इकाई की ओर से पिंजरापोल गोशाला से पूजा व आरती के बाद शोभायात्रा रवाना हुई। जगतपुरा सहित कई अन्य खंड इकाइयों की झांकिय…