Skip to main content

Swami Sahajanand Saraswati - Biography


Swami Sahajanand Saraswati (1889-1950), was born in a Jijhoutia Bhumihar Brahmin family of Gazipur of Uttar Pradesh state of India, was an ascetic (Dandi sanyasi) of Dashnami Order (Dasanami Sannyasi order) of Adi Shankara Sampradaya (a monastic post which only Brahmins can hold) as well as a nationalist and peasant leader of India. Although he was born in Uttar Pradesh (U.P.), his social and political activities centered mostly in Bihar in the initial days, and gradually spread to the rest of India with the formation of All India Kisan Sabha. He had set-up an ashram at Bihta, near Patna and carried out most of his work in the later part of his life from there. He was an intellectual, prolific writer, social reformer and revolutionary all rolled into one.


Government of India had issued a commemorative stamp in the memory of Swami Sahajanand Saraswati, and the stamp was officially released on 26 June 2000 by Ram Vilas Paswan, the-then Minister of Communications, Government of India.


The Indian Council of Agricultural Research has an award Swamy Sahajanand Saraswati Extension Scientist/ Worker Award instituted in his honour. In 2001, a two-day Kisan Mahapanchayat was organised on the occasion of the 112th birth anniversary of Swami Sahajanand Saraswati and had been inaugurated in Rabindra Bhawan by the then state assembly Speaker Sadanand Singh and attended, among others, by Rama Pilot wife of Rajesh Pilot; O P Kejriwal, the then director of Nehru Memorial Museum and Library, New Delhi, medical education minister Shakeel Ahmad, registration minister Vijay Shankar Dubey and former assembly Speaker Radhanandan Jha. Bihar Governor R. S. Gavai released a book on the life of Swami Sahajanand Saraswati on his 57th death anniversary in Patna. Chief Minister Nitish Kumar, along with other Bihar leaders celebrated the 119th birth anniversary of Swami Sahajanand Saraswati, the architect of the farmers' movement. Present Minister of Railways, president of Rashtriya Janata Dal and former Chief Minister of Bihar, Laloo Prasad Yadav had promised way back in 2003 to erect a life-size atatue of Swamiji at Patna exhorting that the “The BJP should have installed his portrait in Parliament". .... CONTINUE

Comments

Popular posts from this blog

पिताजी के निधन पर गमगीन कन्हैया के चेहरे का नूर !

सहसा यकीन नहीं होता, लेकिन तस्वीर है कि यकीन करने पर मजबूर करती है. आपको जैसा कि पता ही है कि छात्र राजनीति से राष्ट्रीय राजनीतिक परिदृश्य में आए कन्हैया के पिता का निधन हो गया था. इस दौरान उनकी तस्वीर भी न्यूज़ मीडिया में आयी थी जिसमें कि वे फूट-फूट कर रो रहे थे. समर्थक और विरोधी सबने दुःख की घड़ी में दुआ की और एक अच्छे इंसान की भी यही निशानी है कि वो ऐसे वक्त पर ऐसी ही संवेदना दिखाए.

बेगूसराय की इस भूमिपुत्री ने 18 साल की उम्र में कर दिया कमाल, पढेंगे तो इस बिटिया पर आपको भी होगा नाज!

प्रेरणादायक खबर : बेटियों पर नाज कीजिए, उन्हें यह खबर पढाईए
बेगूसराय. प्रतिभा किसी चीज की मोहताज नहीं होती. बेगूसराय के बिहटा की भूमिपुत्री प्रियंका ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. 18 साल की उम्र में प्रियंका इसरो की वैज्ञानिक बन गयी हैं. आप सोंच रहे होंगे कि वे किसी धनाढ्य और स्थापित परिवार से संबद्ध रखती हैं लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है. उनके पिता राजीव कुमार सिंह रेलवे में गार्ड की नौकरी करते हैं और मां प्रतिभा कुमारी शिक्षिका हैं. वे बिहटा के एक साधारण भूमिहार ब्राहमण परिवार से ताल्लुक रखती हैं. इस मायने में उनकी सफलता उल्लेखनीय है.  पढाई-लिखाई :  1-दसवी और 12वीं : वर्ष 2006 में 'डीएवी एचएफसी' से दसवीं और वर्ष 2008 में 12वीं  2-बीटेक : नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अगरतला  3-एमटेक : एमटेक की पढ़ाई इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गुवाहाटी से पूरा कर रही हैं  सफलताएं :  1- वर्ष 2009 में एआईईई की परीक्षा में 22419वां रैंक  2- वर्ष 2016 में गेट की परीक्षा में 1604वां रैंक  3- शोध पत्र 'वायरलेस इसीजी इन इंटरनेशनल' जर्नल ऑफ रिसर्च एंड साइंस टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग म…

सेनारी नरसंहार को देख जब भगवान भी काँप गए,17 साल से बंद है मंदिर

मंदिर भगवान का घर होता है लेकिन उस मंदिर में जाकर कोई कुकृत्य करे तो भगवान भी नाराज़ हो जाते हैं और अपने द्वार बंद कर देते हैं. 
बिहार के अरवल जिले के सेनारी गांव में 17 साल पहले ऐसा ही हुआ जब मंदिर रक्तरंजित हो गया और उस घटना को देख भगवान भी एक बार काँप गए होंगे.लेकिन प्रभु से ये मासूम जिज्ञासा भी है कि अपने सामने ऐसा अनर्थ उन्होंने होने कैसे दिया? 
सेनारी में 17 साल पहले गाँव के इसी मंदिर में चुन-चुनकर 34 भू-किसानों की हत्या एक के बाद एक कर हुई थी. ह्त्या का तरीका भी बेहद निर्मम और दिल दहलाने वाला था. 
सभी 34 लोगों की हत्या गला रेत कर गाँव के मंदिर के द्वार पर की गयी थी. तब से आज तक उस मंदिर के द्वार बंद हैं. गांव के लोगों ने इस मंदिर में पूजा पाठ करना बंद कर दिया है. 
ग्रामीणों के मुताबिक भगवान के द्वार पर लोगों की हत्या कर दी गई है. लिहाजा मंदिर में पूजा करने का क्या फायदा ? अब पिछले 17 सालों में यह मंदिर वीरान पड़ा हुआ है.